City Today News

शांतिप्रिय बंगाली समुदाय और बंगाल का हिंसक चुनाव

symbol sign stop violence symbol sign stop violence red prohibition sign around black hand red line text stop 152813087

फिल्म केजीएफ की एक मशहूर डायलॉग है, “वायलेंस, वायलेंस, वायलेंस, आई डॉन’ट लाइक इट, आई अवॉइड, बट वायलेंस लाइकस मी, आई कैन’ट अवॉइड”
कुछ ऐसा ही बंगाल की जनता का चुनाव को लेकर मनोभाव बन चुका है l पश्चिम बंगाल के निवासी विशेष कर बंगाली समुदाय एक शांतिप्रिय समुदाय माना जाता है l यह स्वामी विवेकानंद, रामकृष्ण परमहंस, कवि गुरु रवींद्रनाथ टैगोर की धरती है l यहां के लोगों की बोलचाल भाषा में ‘भोद्र मानुष’ यानी सभ्य पुरुष कहा जाता है l सभ्यता और संस्कृति यहां की मिट्टी में रची बसी है l किंतु बदलते दौर के साथ बंगाल की छवि भी लगातार बदलती जा रही है l आज पूरे भारत में जब भी लोकतंत्र का पर्व मनाया जाता है, तो बंगाल सभी प्रमुख मीडिया चैनलों पर सुर्खियों में होता है l कारण एकमात्र वायलेंस l जिसका उदाहरण लोकसभा चुनाव 2024 के पहले चरण के चुनाव में ही देखने को मिला l

12 killed during panchayat polls in west bengal

File Photo
लोकसभा चुनाव के पहले चरण के तहत शुक्रवार (19 अप्रैल, 2024) को हिंसा की सर्वाधिक घटनाएं पश्चिम बंगाल में देखने को मिलीं l हालांकि, चुनाव आयोग की ओर से दावा किया गया कि यहां पर वोटिंग शांतिपूर्ण ढंग से हुई l इस बीच, जब वोटिंग संपन्न हुई और शाम पांच बजे तक के वोटर टर्न आउट के आंकड़े आए तो रोचक जानकारी सामने आई l शाम पांच बजे तक सबसे ज्यादा मतदान पश्चिम बंगाल में हुआ l चुनाव आयोग के डेटा के मुताबिक, बंगाल में पांच बजे तक सबसे अधिक 77.57 प्रतिशत मतदाताओं ने वोट डाला l
लोकसभा चुनाव के पहले चरण के मतदान के तहत शुक्रवार (19 अप्रैल, 2024) को पश्चिम बंगाल का कूचबिहार इलाका हिंसा का केंद्र बनकर उभरा l दोपहर बाद वहां से ताजा बवाल की खबर आई, जो कि दिनाहाटा के ग्यारगरी इलाके में हुआ l इस बीच खबरें आने लगी की बीजेपी के कैंप ऑफिस पर तोड़फोड़ की गई और पार्टी कार्यकर्ताओं को पीटा गया l आरोप है कि यह सारा बखेड़ा राज्य में सत्तारूढ़ टीएमसी की ओर से खड़ा किया गया l बीजेपी ने इसके खिलाफ कड़ा विरोध किया है l इस बार लोकसभा चुनाव में पूरे भारत वर्ष के सभी राज्यों से ज्यादा केंद्रीय बल पश्चिम बंगाल में तैनात की गई है l बताया जाता है कि अब तक जम्मू एंड कश्मीर में सबसे अधिक केंद्रीय सुरक्षा बल तैनात की जाती थी, किंतु इस बार जम्मू एंड कश्मीर से भी ज्यादा पश्चिम बंगाल में केंद्रीय बल तैनात की गई l चुनाव आयोग किसी भी तरह कि रिस्क लेना नहीं चाहती, वह चाहती है कि हर हाल में यहां शांतिपूर्ण चुनाव हो l लेकिन पिछले कुछ वर्षों से बंगाल ने जो छवि बना रखी है l इसका उदाहरण पहले चरण में ही देखने को मिल गया l और ऐसे में अंदाजा लगा सकते हैं कि आने वाले बाकी चरणों में बंगाल के चुनाव में कैसी तस्वीरे सामने आएगी l शांतिप्रिय लोगों के निवास स्थल बंगाल में आखिर चुनाव के वक्त ऐसा क्या होता है कि बम, गोली, रक्त रंजित दृश्य उभर कर सामने आने लगती है l संभवतः या दृश्य हम सबको विचलित करती है l

stop no violence hand illustration 260nw 432531991

आज हम सबको चाहिए कि जब हमारे माननीय हमारे दरवाजे पर आकर मतों की भीख मांगे, तो उनसे हाथ जोड़कर यह कहे कि हम बेरोजगारी का दंस झेलते हुए महंगाई रूपी डायन से लड़ लेंगे, बस आप इतना कृपा करें, कुर्सी के लिए हमारी मातृभूमि बंगाल की धरती को कलंकित न करें l साथ ही जरुरत है कि केजीएफ की वह मशहूर डायलॉग को बदलकर हम अपनी डायलॉग बनाएं ” वायलेंस, वायलेंस, वायलेंस, आई डॉन’ट लाइक इट, आई अवॉइड, व्हेन वायलेंस लाइकस मी, देन आई आल्सो अवॉइड” यानी गांधीगिरी को अपनाये l

City Today News

monika and rishi

Leave a comment