City Today News

पश्चिम बंगाल विद्युत उन्नयन निगम लिमिटेड को खनन में भाग लेने से रोकने के आरोपों से कोयला मंत्रालय ने किया इंकार, कहा सारे आरोप निराधार हैं

90 1592250834

पश्चिम बंगाल विद्युत उन्नयन निगम लिमिटेड (डब्ल्यूबीपीडीसीएल) को खनन नीलामी में भाग लेने से रोक दिया गया है। कई मीडिया रिपोर्ट्स में ऐसे गंभीर आरोप लगाए गए हैं l हालांकि कोयला मंत्रालय की ओर से साफ तौर पर कहा गया है कि ऐसे आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है l कोयला मंत्रालय ने एक बयान में कहा – “कई मीडिया रिपोर्टों से पता चलता है कि केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल की कोयला नीलामी को अवैध रूप से रोककर एक कॉर्पोरेट को फायदा पहुंचाया है।”
इसमें स्पष्ट रूप से यह आरोप लगाया गया है कि कोयला मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल स्थित कोयला खदानों की नीलामी में भाग लेने के लिए पश्चिम बंगाल पावर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (डब्ल्यूबीपीडीसीएल) को अयोग्य घोषित कर दिया है और डब्ल्यूबीपीडीसीएल को पूर्व आवंटी के रूप में माना है। इतना ही नहीं, तय समय के भीतर अतिरिक्त शुल्क का भुगतान न करने का भी आरोप लगाया गया है। कोयला मंत्रालय का स्पष्ट कहना है कि ऐसी रिपोर्टों में लगाए गए आरोप गलत और निराधार हैं। कोयला खदानें, सार्वजनिक और निजी दोनों प्रकार की कंपनियों को नीलामी के माध्यम से आवंटित की जाती हैं। जहां सिर्फ सरकारी कंपनियों का वितरण होता है, कोयला खदान (विशेष प्रावधान) अधिनियम की धारा 4(4) के अनुसार, यदि पहले आवंटित अतिरिक्त शुल्क का भुगतान नहीं किया गया है, तो न तो कंपनी और न ही उसके प्रमोटर या उसकी कोई अन्य कंपनी बोली लगाने के लिए पात्र मानी जाएंगी। डब्ल्यूबीपीडीसीएल के प्रमोटर, बंगाल माउंट कोल माइंस लिमिटेड को उस अधिनियम के तहत नीलामी में भाग लेने से अयोग्य घोषित कर दिया गया था। लेकिन चूंकि डब्ल्यूबीपीडीसीएल पहले से आवंटित नहीं था, इसलिए निगम आवंटन के माध्यम से खदान प्राप्त करने के लिए पात्र था। इसी तरह डब्ल्यूबीपीडीसीएल को भी खदानें आवंटित की गयीं।
यह भी आरोप लगाया गया है कि सरिस्ताली खदान की नीलामी के लिए बोली लगाते समय कंपनियों के एक समूह ने मिलीभगत की। केंद्र ने अवैध रूप से पश्चिम बंगाल सरकार को ब्लॉक के लिए बोली लगाने से रोक दिया था, ताकि गैर-सरकारी संगठनों को अतिरिक्त अवसर मिल सके। इस संबंध में कोयला मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि निजी कंपनियों के लिए मिलीभगत के सभी आरोप निराधार हैं। बोली दस्तावेज के अनुसार, एक सामान्य विशिष्ट अंतिम उपयोग (एसईयू) वाली दो या दो से अधिक कंपनियों द्वारा बनाई गई एक संयुक्त उद्यम (जेवी) कंपनी को ई-नीलामी में स्वतंत्र रूप से बोली लगाने के लिए पात्र माना जाता है।

City Today News

monika and rishi

Leave a comment