City Today News

उच्च माध्यमिक छात्रों के लिए गुड न्यूज़, इस वर्ष से उच्च माध्यमिक सेमेस्टर प्रणाली होगी लागू

इस वर्ष से उच्च माध्यमिक के लिए सेमेस्टर प्रणाली लागू होगी। उच्च माध्यमिक शिक्षा परिषद द्वारा, हालांकि इसकी घोषणा बहुत पहले ही कर दी गई थी, लेकिन सिलेबस और मॉडल प्रश्न पत्र तैयार करने और सरकार से अनुमति लेने की प्रक्रिया चल रही थी, जिसके कारण देर हुई। अंतत: शिक्षा विभाग की अनुमति पर संसद अध्यक्ष चिरंजीव भट्टाचार्य ने स्कूलों को इसकी जानकारी दी है। जो लोग इस साल 11वीं की कक्षा में दाखिला लेंगे, उन्हें एक शैक्षणिक वर्ष में दो बार परीक्षा देनी होगी। एक परीक्षा नवंबर में होगी, दूसरी मार्च तक होगी। सेमेस्टर की घोषणा होने के बावजूद सेमेस्टर वार पाठ्यक्रम, कक्षा व्यवस्था और अंक विभाजन की घोषणा बाकी है। यह बहुत जल्द किया जायेगा l इस संदर्भ में सांसद सचिव प्रियदर्शनी मल्लिक ने कहा कि सम सेमेस्टर में लघु उत्तर प्रकार (एसएक्यू) और वर्णनात्मक उत्तर प्रकार (डीएक्यू) प्रश्न होंगे और ऑड यानि विषम सेमेस्टर में केवल बहुविकल्पीय प्रश्न (एमसीक्यू) होंगे। एक सेमेस्टर में अंकों की संख्या को लेकर अभी अंतिम फैसला नहीं हुआ है l इसके लिए हमें प्रकाशकों से चर्चा करनी होगी l व्यावसायिक कारकों पर भी विचार किया जाएगा l हालांकि, नवंबर और मार्च में दो परीक्षाएं होंगी और प्रैक्टिकल या प्रोजेक्ट साल में एक बार होगा। सेमेस्टर की घोषणा होने के बावजूद सेमेस्टर वार पाठ्यक्रम, कक्षा व्यवस्था और अंक विभाजन की घोषणा बाकी है। यह बहुत जल्द किया जायेगा। व्यावसायिक कारकों पर भी विचार किया जाएगा। बताया जा रहा है कि राज्य के बच्चों को मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश नीट और जेईई (मेन) में अधिक सफलता दिलाने के लिए यह निर्णय लिया गया है l अब से विज्ञान के छात्र शारीरिक शिक्षा को भी वैकल्पिक विषय के रूप में ले सकेंगे। विभिन्न राज्यों के छात्र राजस्थान कोटा में इस रणनीति का उपयोग करते हैं। गणित की आवश्यकता नहीं है l ये छात्र इसके बजाय शारीरिक शिक्षा लेते हैं। वे तीन महीने में सिलेबस पूरा कर लेते हैं। वे केवल भौतिकी के लिए आवश्यक गणित का अभ्यास करते हैं। वे शेष वर्ष के दौरान तीन अन्य विषयों का अध्ययन करते हैं। जेईई मेन के मामले में विषय गणित के बजाय जीवविज्ञान में बदल जाता है। इसके बजाय वे शारीरिक शिक्षा लेते हैं। इससे उन्हें अन्य चीजों के लिए अतिरिक्त समय मिल जाता है। इस बार राज्य के छात्रों के लिए इस अवसर का दरवाजा खुला है।

अंतिम घोषणा की पुष्टि हो चुकी है, लेकिन विज्ञान और व्यावसायिक शाखाओं में थ्योरी के लिए 70 अंक और प्रैक्टिकल के लिए 30 अंक होंगे। नवंबर में 35 अंकों का एमसीक्यू और मार्च में 35 अंकों का छोटे और बड़े प्रश्नों का थ्योरी टेस्ट होगा। कला विभाग के मामले में 80 अंकों की थ्योरी और 20 अंकों का प्रोजेक्ट होगा। उस स्थिति में, परीक्षा को 40 अंकों के दो प्रश्नों में विभाजित किया जाएगा। वहीं नवंबर तक प्रोजेक्ट और प्रैक्टिकल हो जाएगा। विषयानुसार शाखाओं को चार सेटों में विभाजित किया गया है। किसी भी सेट में कौशल सत्यापन प्रश्न भी हो सकते हैं।

City Today News

monika and rishi

Leave a comment